Smita Patil Biography in Hindi, Her Death and Songs

Smita Patil Biography in Hindi, Her Death and Songs

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको एसी फिल्म अभिनेत्री की जीवनी लिखने जा रहे है जो अपनी काम उम्र में ही हमको अलविदा कहकर चली गई थी, जी हाँ हम बात करने जा रहे है स्मिता पाटिल (Smita Patil) की जो एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री थीं, जो 80 से अधिक हिंदी और मराठी फिल्मों में दिखाई दीं। अपनी स्वाभाविक अभिनय शैली के लिए जानी जाने वाली, पाटिल को भारतीय फिल्म उद्योग की बेहतरीन अभिनेत्रियों में से एक माना जाता था।

उन्होंने अपने प्रदर्शन के लिए कई पुरस्कार जीते, जिनमें सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार और सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के लिए फिल्मफेयर पुरस्कार शामिल हैं। पाटिल सामाजिक सक्रियता में भी शामिल थीं और उन्हें महिलाओं के अधिकारों की वकालत के लिए जाना जाता था। प्रसव के दौरान जटिलताओं के कारण 31 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया। अपने छोटे करियर के बावजूद, पाटिल की विरासत भारतीय सिनेमा को प्रेरित और प्रभावित करती रही है।

smita patil biography स्मिता पाटिल की जीवनी

smita patil का जन्म 17 अक्टूबर, 1955 को पुणे, भारत में एक महाराष्ट्रीयन परिवार में हुआ था। वह तीन बच्चों में से दूसरी थी और एक मध्यमवर्गीय परिवार में पली-बढ़ी थी। उनके पिता, शिवाजीराव गिरधर पाटिल, एक प्रगतिशील राजनीतिज्ञ थे और उनकी माँ, विद्याताई पाटिल, एक सामाजिक कार्यकर्ता थीं।

स्मिता ने अपनी स्कूली शिक्षा पुणे के रेणुका स्वरूप मेमोरियल गर्ल्स हाई स्कूल से पूरी की, और बाद में कला में स्नातक की डिग्री हासिल करने के लिए फर्ग्यूसन कॉलेज में दाखिला लिया। हालाँकि, अभिनय में उनकी रुचि ने उन्हें कॉलेज छोड़ने और फिल्म उद्योग में अपना करियर बनाने के लिए प्रेरित किया।

उन्होंने 1974 में फिल्म “माला घेवुन चला” के साथ मराठी फिल्म उद्योग में अपने अभिनय करियर की शुरुआत की। इसके बाद उन्होंने 1975 में फिल्म “चरणदास चोर” के साथ हिंदी सिनेमा में अपनी शुरुआत की। हालांकि, यह फिल्म “में उनकी भूमिका थी” मंथन” (1976), श्याम बेनेगल द्वारा निर्देशित, जिसने उन्हें पहचान और आलोचनात्मक प्रशंसा दिलाई।

अपने करियर के दौरान, पाटिल हिंदी और मराठी में 80 से अधिक फिल्मों में दिखाई दीं, और अपनी स्वाभाविक और सूक्ष्म अभिनय शैली के लिए जानी गईं। उन्होंने सत्यजीत रे, मृणाल सेन और गोविंद निहलानी सहित कई प्रसिद्ध निर्देशकों के साथ काम किया।

पाटिल अपनी सक्रियता और सामाजिक कार्यों के लिए भी जानी जाती थीं। वह महिलाओं के अधिकारों सहित कई सामाजिक मुद्दों में शामिल थीं, और मुंबई में महिला केंद्र जैसे संगठनों के साथ काम किया। वह भारतीय समाज की पितृसत्तात्मक प्रकृति और महिलाओं के उपचार की मुखर आलोचक थीं।

दुखद रूप से, पाटिल का जीवन उस समय छोटा हो गया जब वह 31 वर्ष की छोटी उम्र में बच्चे के जन्म के दौरान जटिलताओं के कारण गुजर गईं। उनकी मृत्यु भारतीय फिल्म उद्योग के लिए एक बड़ी क्षति थी, और कई लोग उन्हें पर्दे पर शोभा पाने वाली बेहतरीन अभिनेत्रियों में से एक मानते हैं। उनकी विरासत भारतीय सिनेमा को प्रेरित और प्रभावित करती रही है, और वह कई लोगों के लिए शक्ति और दृढ़ता का प्रतीक बनी हुई हैं।

Smita Patil Biography in Hindi, Her Death and Songs
Smita Patil Biography in Hindi, Her Death and Songs

स्मिता पाटिल का परिवार

स्मिता पाटिल का जन्म 17 अक्टूबर, 1955 को पुणे, भारत में एक महाराष्ट्रीयन परिवार में हुआ था। उनके पिता, शिवाजीराव गिरधर पाटिल, एक प्रगतिशील राजनीतिज्ञ थे और उनकी माँ, विद्याताई पाटिल, एक सामाजिक कार्यकर्ता थीं।

स्मिता पाटिल परिवार में तीन बच्चों में से दूसरी थीं। उनकी बड़ी बहन, मान्या पाटिल, एक पूर्व टेलीविजन समाचार एंकर हैं, जबकि उनके छोटे भाई, प्रतीक बब्बर, एक फिल्म अभिनेता हैं।

1986 में, Smita Patil ने अभिनेता राज बब्बर से शादी की, जो पहले नादिरा ज़हीर से शादी कर चुके थे और उनके दो बच्चे थे। स्मिता और राज का एक बेटा था, जिसका नाम प्रतीक बब्बर था, जो बाद में उनके पिता की तरह अभिनेता बन गया।

स्मिता पाटिल का परिवार उनके प्रगतिशील और उदार विचारों के लिए जाना जाता था, और उनके माता-पिता सामाजिक और राजनीतिक कारणों से सक्रिय थे। स्मिता स्वयं कई सामाजिक कारणों, विशेष रूप से महिलाओं के अधिकारों और सशक्तिकरण में शामिल थीं।

दुर्भाग्य से, स्मिता पाटिल का जीवन तब छोटा हो गया जब 31 वर्ष की आयु में बच्चे के जन्म के दौरान जटिलताओं के कारण उनका निधन हो गया। उनकी मृत्यु उनके परिवार और भारतीय फिल्म उद्योग के लिए एक बड़ी क्षति थी, लेकिन उनकी विरासत कई लोगों को प्रेरित और प्रभावित करती है।

Smita Patil education – स्मिता पाटिल की शिक्षा

स्मिता पाटिल ने पुणे, महाराष्ट्र, भारत में रेणुका स्वरूप मेमोरियल गर्ल्स हाई स्कूल से अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की। स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद, उन्होंने कला में स्नातक की डिग्री हासिल करने के लिए पुणे के फर्ग्यूसन कॉलेज में दाखिला लिया।

हालांकि, अभिनय में स्मिता की रुचि ने उन्हें कॉलेज छोड़ने और फिल्म उद्योग में अपना करियर बनाने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने मराठी फिल्म उद्योग में अपने अभिनय करियर की शुरुआत 1974 में फिल्म “माला घेवुन चला” से की, जब वह कॉलेज में थीं।

अपनी औपचारिक शिक्षा पूरी नहीं करने के बावजूद, स्मिता पाटिल को उनकी बुद्धि और सामाजिक और राजनीतिक कारणों में उनकी रुचि के लिए जाना जाता था। वह एक जिज्ञासु पाठक थीं और जीवन भर एक सक्रिय शिक्षार्थी बनी रहीं, लगातार ज्ञान और नए अनुभवों की तलाश करती रहीं। उनकी प्रतिभा और उनके शिल्प के प्रति समर्पण ने उन्हें अपने साथियों और दर्शकों से समान रूप से प्रशंसा और सम्मान अर्जित किया।

स्मिता पाटिल का करियर

स्मिता पाटिल भारतीय सिनेमा की एक प्रमुख अभिनेत्री थीं, जो अपनी स्वाभाविक अभिनय शैली और जटिल चरित्रों के बारीक चित्रण के लिए जानी जाती हैं। उन्होंने 1974 में फिल्म “माला घेवुन चला” से मराठी सिनेमा में अपने अभिनय करियर की शुरुआत की और अपने करियर के दौरान 80 से अधिक हिंदी और मराठी फिल्मों में काम किया।

Smita Patil Biography in Hindi, Her Death and Songs
Smita Patil Biography in Hindi, Her Death and Songs

उनकी कुछ सबसे उल्लेखनीय फिल्मों में “मंथन” (1976), “भूमिका” (1977), “आक्रोश” (1980), “चक्र” (1981), “नमक हलाल” (1982), और “मिर्च मसाला” (1985) शामिल हैं। ). उन्होंने श्याम बेनेगल, गोविंद निहलानी और मृणाल सेन सहित अपने समय के कुछ सबसे प्रमुख निर्देशकों के साथ काम किया।

पाटिल अपनी बहुमुखी प्रतिभा और अपनी भूमिकाओं में प्रामाणिकता लाने की क्षमता के लिए जानी जाती थीं। वह मजबूत, स्वतंत्र महिलाओं की भूमिका निभाने में उतनी ही सहज थीं, जितनी कि वह कमजोर और विवादित किरदार निभा रही थीं। उनके प्रदर्शन ने उनकी आलोचनात्मक प्रशंसा अर्जित की, और उन्होंने अपने करियर के दौरान कई पुरस्कार जीते, जिनमें सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार और सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के लिए फिल्मफेयर पुरस्कार शामिल हैं।

अपने अभिनय करियर के अलावा, स्मिता सामाजिक सक्रियता में भी शामिल थीं और महिलाओं के अधिकारों की मुखर हिमायती थीं। उन्होंने मुंबई में महिला केंद्र जैसे संगठनों के साथ काम किया और लैंगिक असमानता और भेदभाव से संबंधित मुद्दों पर ध्यान देने के लिए अपने मंच का इस्तेमाल किया।

दुख की बात है कि स्मिता पाटिल का जीवन तब छोटा हो गया जब 31 साल की उम्र में बच्चे के जन्म के दौरान जटिलताओं के कारण उनका निधन हो गया। हालांकि, भारतीय सिनेमा में बेहतरीन अभिनेत्रियों में से एक के रूप में उनकी विरासत अभिनेताओं और फिल्म निर्माताओं की पीढ़ियों को प्रेरित और प्रभावित करती रही है।

smita patil best movieस्मिता पाटिल सबसे अच्छी फिल्म

यदि हम बात करें smita patil best movie की तो इनका भारतीय सिनेमा में शानदार करियर रहा और उन्होंने कई फिल्मों में यादगार अभिनय किया। केवल एक फिल्म को उनकी सर्वश्रेष्ठ फिल्म के रूप में चुनना मुश्किल है, क्योंकि उनका प्रत्येक प्रदर्शन अपने तरीके से अद्वितीय और असाधारण था। हालाँकि, यहाँ उनकी कुछ सबसे प्रशंसित और प्रतिष्ठित फ़िल्में हैं:

  • भूमिका” (1977) – श्याम बेनेगल द्वारा निर्देशित यह फिल्म मराठी अभिनेत्री हंसा वाडकर की बायोपिक थी। स्मिता पाटिल ने एक प्रतिभाशाली और महत्वाकांक्षी अभिनेत्री उषा की मुख्य भूमिका निभाई, जो अपने निजी जीवन में पूर्णता पाने के लिए संघर्ष करती है।
  • आक्रोश” (1980) – गोविंद निहलानी द्वारा निर्देशित, यह फिल्म भारतीय कानूनी व्यवस्था और हाशिए के समुदायों के उपचार की एक शक्तिशाली आलोचना थी। स्मिता पाटिल ने एक आदिवासी महिला की भूमिका निभाई, जिस पर अपने पति की हत्या का गलत आरोप है।
  • चक्र” (1981) – रवींद्र धर्मराज द्वारा निर्देशित इस फिल्म में स्मिता पाटिल ने एक ऐसी महिला का किरदार निभाया था, जिसे अपने समाज के पितृसत्तात्मक मानदंडों का सामना करने के लिए मजबूर किया जाता है। फिल्म लैंगिक असमानता और यौन उत्पीड़न के मुद्दों से निपटती है।
  • मिर्च मसाला” (1985) – केतन मेहता द्वारा निर्देशित, यह फिल्म एक नारीवादी क्लासिक थी जिसने लिंग और शक्ति के विषयों की खोज की थी। Smita Patil ने मसाला फैक्ट्री में काम करने वाली सोनबाई की भूमिका निभाई, जो एक भ्रष्ट सरकारी अधिकारी के खिलाफ खड़ी होती है।

ये फिल्में एक अभिनेत्री के रूप में स्मिता पाटिल की सीमा और बहुमुखी प्रतिभा को प्रदर्शित करती हैं, और भारतीय सिनेमा में कुछ बेहतरीन कृतियों में से एक मानी जाती हैं।

smita patil husbandस्मिता पाटिल के पति

स्मिता पाटिल के पति अभिनेता राज बब्बर थे। दोनों 1982 में फिल्म ‘भीगी पलकें’ के सेट पर मिले और प्यार हो गया। उस समय राज बब्बर की शादी नादिरा ज़हीर से हुई थी, लेकिन उन्होंने 1986 में स्मिता पाटिल से शादी करने के लिए उन्हें तलाक दे दिया।

स्मिता और राज का प्रतीक बब्बर नाम का एक बेटा था, जो भारतीय फिल्म उद्योग में एक अभिनेता भी है। युगल का विवाह अल्पकालिक था, क्योंकि स्मिता पाटिल का 1986 में प्रसव के दौरान जटिलताओं के कारण निधन हो गया, उनके बेटे के जन्म के कुछ ही हफ्तों बाद।

स्मिता की मृत्यु के बाद, राज बब्बर ने फिल्मों में अभिनय करना जारी रखा और राजनीति में सक्रिय रूप से शामिल रहे। बाद में उन्होंने दूसरी शादी की और उनकी दूसरी पत्नी से दो बच्चे हैं।

rajesh khanna smita patil movieराजेश खन्ना और स्मिता पाटिल की फिल्म

rajesh khanna और smita patil ने 1982 में आई फिल्म ‘अंगारे’ में साथ काम किया था। फिल्म राजेश सेठी द्वारा निर्देशित और सुरेश ग्रोवर द्वारा निर्मित थी। फिल्म में राजेश खन्ना ने एक ईमानदार पुलिस अधिकारी की भूमिका निभाई है, जो भ्रष्टाचार से लड़ने और समाज को न्याय दिलाने के लिए दृढ़ संकल्पित है। स्मिता पाटिल ने एक सामाजिक कार्यकर्ता की भूमिका निभाई जो अधिकारी को उसके मिशन में मदद करती है।

अपने समय के दो सबसे बड़े सितारे होने के बावजूद, “अंगाराय” बॉक्स ऑफिस पर अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाई। हालाँकि, फिल्म को इसके शक्तिशाली प्रदर्शन और सामाजिक न्याय और सक्रियता के विषयों के लिए याद किया जाता है।

amitabh smita patil moviesअमिताभ स्मिता पाटिल की फिल्में

अमिताभ बच्चन और स्मिता पाटिल कुछ फिल्मों में एक साथ दिखाई दिए, और उनकी ऑन-स्क्रीन केमिस्ट्री को दर्शकों ने खूब सराहा। यहां कुछ ऐसी फिल्में हैं जिनमें उन्होंने एक साथ काम किया है:

  1. नमक हलाल” (1982) – प्रकाश मेहरा द्वारा निर्देशित यह फिल्म एक व्यावसायिक सफलता थी और इसमें अमिताभ बच्चन मुख्य भूमिका में थे। smita patil ने एक धनी उत्तराधिकारी की भूमिका निभाई, जिसे अपने चरित्र से प्यार हो जाता है।
  2. शक्ति” (1982) – रमेश सिप्पी द्वारा निर्देशित यह फिल्म एक क्राइम ड्रामा थी जिसमें परिवार, कर्तव्य और सम्मान के विषयों की खोज की गई थी। अमिताभ बच्चन ने एक पुलिस अधिकारी की भूमिका निभाई, जबकि smita patil ने उनकी पत्नी की भूमिका निभाई।
  3. आज की आवाज़” (1984) – रवि चोपड़ा द्वारा निर्देशित यह फिल्म एक सामाजिक ड्रामा थी जो भ्रष्टाचार और अन्याय के मुद्दों से जुड़ी थी। अमिताभ बच्चन ने एक पत्रकार की भूमिका निभाई, जबकि स्मिता पाटिल ने एक सामाजिक कार्यकर्ता की भूमिका निभाई।
  4. गुलामी” (1985) – जेपी दत्ता द्वारा निर्देशित, यह फिल्म एक राजनीतिक नाटक थी जिसने सामंतवाद और उत्पीड़न के विषयों की खोज की थी। अमिताभ बच्चन ने एक किसान की भूमिका निभाई, जबकि स्मिता पाटिल ने एक गाँव की महिला की भूमिका निभाई।

इन सभी फिल्मों को भारतीय सिनेमा की क्लासिक्स माना जाता है और इनमें अमिताभ बच्चन और स्मिता पाटिल दोनों की अपार प्रतिभा को दिखाया गया है।

इनसे अलग और भी बहुत एसी फिल्में है जिनमे स्मिता पाटिल ने अपने अभी ने का जादू बिखेर है, जो निम्न लिखित है।

वर्ष 1989 में – गलियों का बादशाह वर्ष 1984 में – पेट प्यार और पाप
वर्ष 1988 में – वारिस वर्ष 1984 में – कसम पैदा करने वाले की
वर्ष 1988 में – हम फ़रिश्ते नहीं वर्ष 1984 में – फ़रिश्ता
वर्ष 1988 में – आकर्षण वर्ष 1984 में – आनन्द और आनन्द
वर्ष 1987 में – ठिकाना वर्ष 1984 में – शराबी
वर्ष 1987 में – राही वर्ष 1983 में – मंडी
वर्ष 1987 में – डांस डांस वर्ष 1983 में – अर्द्ध सत्य
वर्ष 1987 में – शेर शिवाजी वर्ष 1983 में – हादसा
वर्ष 1987 में – सूत्रधार वर्ष 1982 में – सितम
वर्ष 1987 में – आवाम वर्ष 1982 में – बाज़ार
वर्ष 1987 में – नज़राना वर्ष 1982 में – भीगी पलकें
वर्ष 1987 में – एहसान वर्ष 1982 में – दर्द का रिश्ता
वर्ष 1987 में – इंसानियत के दुश्मन वर्ष 1982 में – नादान
वर्ष 1986 में – आप के साथ वर्ष 1982 में – शक्ति
वर्ष 1986 में – काँच की दीवार वर्ष 1982 में – बदले की आग
वर्ष 1986 में – अमृत वर्ष 1982 में – अर्थ
वर्ष 1986 में – अनोखा रिश्ता वर्ष 1982 में – नमक हलाल
वर्ष 1986 में – तीसरा किनारा वर्ष 1981 में – तजुर्बा
वर्ष 1986 में – अंगारे वर्ष 1981 में – सद्गति
वर्ष 1986 में – दहलीज़ वर्ष 1981 में – चक्र
वर्ष 1986 में – दिलवाला वर्ष 1980 में – भवनी भवाई
वर्ष 1985 में – मेरा घर मेरे बच्चे वर्ष 1980 में – अलबर्ट पिन्टो को गुस्सा क्यों आता है
वर्ष 1985 में – आखिर क्यों? वर्ष 1980 में – द नक्सेलाइटस
वर्ष 1985 में – जवाब वर्ष 1980 में – आक्रोश
वर्ष 1985 में – गुलामी वर्ष 1978 में – कोन्दुरा
वर्ष 1985 में – मिर्च मसाला वर्ष 1977 में – भूमिका
वर्ष 1984 में – रावण वर्ष 1976 में – मंथन
वर्ष 1984 में – मेरा दोस्त मेरा दुश्मन वर्ष 1975 में – निशांत
वर्ष 1984 में – तरंग वर्ष 1952 में – घुंघरू
वर्ष 1984 में – गिद्ध

best song of smita patil

smita patil songs की बात करें तो वह अपने शक्तिशाली अभिनय कौशल के लिए जानी जाती थीं और उन्होंने संगीत पर अधिक ध्यान देने वाली फिल्में नहीं कीं। हालाँकि, वह कुछ यादगार गानों का हिस्सा रही हैं जो समय की कसौटी पर खरे उतरे हैं। यहां उनके कुछ सबसे लोकप्रिय गाने हैं:

  1. फिल्म “महबूबा” (1976) का “मेरे नैना सावन भादों” – यह गाना स्मिता पाटिल और राजेश खन्ना के बीच एक खूबसूरत युगल गीत है। संगीत आरडी बर्मन द्वारा रचित था और गीत आनंद बख्शी द्वारा लिखे गए थे।
  2. फिल्म “अर्थ” (1982) का “तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो” – जगजीत सिंह द्वारा गाया गया यह गीत एक भावपूर्ण और भावनात्मक गीत है जो फिल्म के सार को दर्शाता है। महेश भट्ट के निर्देशन में बनी इस फिल्म में स्मिता पाटिल ने मुख्य भूमिका निभाई थी।
  3. फिल्म “कोंडुरा” (1984) का “यादों की जंजीरों में” – लता मंगेशकर द्वारा गाया गया यह गीत एक भूतिया राग है जो स्मिता पाटिल की अभिव्यंजक आँखों और गहन अभिनय कौशल को प्रदर्शित करता है।
  4. फिल्म “आखिर क्यों?” से “दुश्मन ना करे”? (1985) – लता मंगेशकर और अमित कुमार द्वारा गाया गया यह गीत एक सुंदर युगल गीत है जो रिश्तों की जटिलताओं की पड़ताल करता है। जे. ओम प्रकाश द्वारा निर्देशित इस फिल्म में स्मिता पाटिल ने मुख्य भूमिका निभाई थी।

ये गाने संगीत में स्मिता पाटिल के कुछ बेहतरीन काम हैं और आज भी प्रशंसकों द्वारा पसंद किए जाते हैं।

smita patil Awards

smita patil एक अत्यधिक प्रशंसित अभिनेत्री थीं और उन्होंने अपने करियर के दौरान भारत और विदेशों में कई पुरस्कार जीते। उन्हें मिले कुछ प्रमुख पुरस्कार इस प्रकार हैं:

  • सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार – उन्होंने “भूमिका” (1977) और “चक्र” (1981) फिल्मों में अपनी भूमिकाओं के लिए दो बार यह पुरस्कार जीता।
  • सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का फिल्मफेयर पुरस्कार – उन्होंने “चक्र” (1981), “अर्थ” (1982), और “भवानी भवई” (1985) फिल्मों में अपनी भूमिकाओं के लिए तीन बार यह पुरस्कार जीता।
  • पद्म श्री – उन्हें 1985 में भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म श्री से सम्मानित किया गया था।
  • अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार – फिल्म “चक्र” (1981) में उनके प्रदर्शन के लिए उन्होंने चेकोस्लोवाकिया में कार्लोवी वैरी इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का पुरस्कार जीता। उन्होंने फिल्म “भूमिका” (1977) में अपनी भूमिका के लिए इटली में टॉरमिना इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का पुरस्कार भी जीता।

Smita Patil को उनकी असाधारण प्रतिभा और भारतीय सिनेमा में योगदान के लिए व्यापक रूप से पहचाना गया। उनके गुजर जाने के बाद भी, वह अब तक की सबसे प्रसिद्ध अभिनेत्रियों में से एक हैं।

how did smita patil diedस्मिता पाटिल की मौत कैसे हुई

स्मिता पाटिल का निधन 13 दिसंबर 1986 को प्रसव के दौरान जटिलताओं के कारण हो गया था। मृत्यु के समय वह केवल 31 वर्ष की थी। स्मिता पाटिल ने 28 नवंबर, 1986 को एक बेटे, प्रतीक बब्बर को जन्म दिया था और कुछ ही समय बाद जटिलताओं का विकास किया था।

स्मिता पाटिल को अस्पताल ले जाया गया, जहां उनका आपातकालीन सिजेरियन सेक्शन किया गया। हालांकि, उसकी हालत तेजी से बिगड़ती गई और वह कोमा में चली गई। बाद में बच्चे के जन्म से उत्पन्न गंभीर जटिलताओं के कारण उसे मृत घोषित कर दिया गया।

Smita Patil की मौत भारतीय फिल्म उद्योग और दुनिया भर में उनके प्रशंसकों के लिए एक झटका थी। उन्होंने खुद को अपनी पीढ़ी की सबसे प्रतिभाशाली अभिनेत्रियों में से एक के रूप में स्थापित किया था, और उनके निधन पर व्यापक रूप से शोक व्यक्त किया गया था।

smita patil death reason स्मिता पाटिल की मौत की वजह

जैसा की हमने आपको ऊपर बताया कि स्मिता पाटिल का प्रसव से उत्पन्न जटिलताओं के कारण निधन हो गया। उन्होंने 28 नवंबर, 1986 को एक बेटे, प्रतीक बब्बर को जन्म दिया और उसके तुरंत बाद उनकी तबीयत अत्यधिक खराब हो गई। Smita Patil को अस्पताल ले जाया गया, जहां उनका आपातकालीन सिजेरियन सेक्शन किया गया। हालांकि, उसकी हालत तेजी से बिगड़ती गई और वह कोमा में चली गई। बच्चे के जन्म से उत्पन्न गंभीर जटिलताओं के कारण 13 दिसंबर 1986 को उनका निधन हो गया। स्मिता पाटिल की असामयिक मृत्यु भारतीय फिल्म उद्योग के लिए एक बड़ी क्षति थी, और दुनिया भर में उनके प्रशंसकों ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया।

स्मिता पाटिल के बारे में कुछ रोचक तथ्य

स्मिता पाटिल के बारे में कुछ रोचक तथ्य इस प्रकार हैं:

  • स्मिता पाटिल एक प्रशिक्षित शास्त्रीय गायिका थीं और उनकी गायन की आवाज बहुत सुंदर थी। उन्होंने अपनी कुछ फिल्मों में गाना भी गाया है।
  • Smita Patil एक सामाजिक कार्यकर्ता थीं और विभिन्न सामाजिक कारणों में सक्रिय रूप से शामिल थीं। वह “आनंदवन” नामक एनजीओ से भी जुड़ी थीं, जिसकी स्थापना सामाजिक कार्यकर्ता बाबा आमटे ने की थी।
  • स्मिता पाटिल अपने समय की उन चुनिंदा अभिनेत्रियों में से एक थीं जो कॉमर्शियल और पैरेलल सिनेमा दोनों में समान रूप से सहज थीं।
  • Smita Patil एक उत्साही पाठक थीं और किताबों के विशाल संग्रह के लिए जानी जाती थीं। उन्हें विश्व इतिहास और संस्कृति के बारे में पढ़ने का विशेष शौक था।
  • स्मिता पाटिल एक फिटनेस उत्साही थीं और एक प्रशिक्षित कथक नर्तकी थीं। वह नियमित रूप से योगाभ्यास भी करती थीं।

ये दिलचस्प तथ्य हमें Smita Patil के बहुआयामी व्यक्तित्व और सिनेमा की दुनिया से परे उनकी विविध रुचियों की झलक देते हैं।

इनके बारे मे भी जाने