Biography of apj abdul kalam in hindi

Biography of apj abdul kalam in hindi

एपीजे अब्दुल कलाम एक इसे व्यक्तित्व है जिन्हे हिंदुस्तान ही नहीं वल्कि पूरा विश्व इनको इनके नाम और इनकी सफलता से जनता भी जाना जाता है आज हम अपनी इस पोस्ट के माध्यम से आपको इस विश्व विख्यात व्यक्ति के बारे में जानकारी देने जा रहे है, जिन्हें “जनता के राष्ट्रपति” के रूप में भी जाना जाता है, एक वैज्ञानिक, शिक्षक और राजनीतिक नेता थे, जिन्होंने भारत के 11वें राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया।

एपीजे अब्दुल कलाम का बचपन का जीवन (apj abdul kalam childhood life )

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर, 1931 को भारत के तमिलनाडु के एक छोटे से शहर रामेश्वरम में हुआ था और apj abdul kalam ka pura naam “Avul Pakir Jainulabdeen Abdul Kalam” है। वह एक तमिल मुस्लिम परिवार में पांच भाई-बहनों में सबसे छोटे थे। उनके पिता, जैनुलाब्दीन, एक स्थानीय मस्जिद में इमाम और एक नाव के मालिक थे, जबकि उनकी माँ, आशियम्मा, एक गृहिणी थीं।

कलाम का बचपन आसान नहीं था, क्योंकि उनका परिवार आर्थिक रूप से संघर्ष कर रहा था। हालाँकि, वह कम उम्र से ही एक उज्ज्वल और मेहनती छात्र था। उन्होंने रामनाथपुरम में श्वार्ट्ज हायर सेकेंडरी स्कूल में पढ़ाई की और बाद में तिरुचिरापल्ली के सेंट जोसेफ कॉलेज में भौतिकी का अध्ययन किया।

वित्तीय कठिनाइयों का सामना करने के बावजूद, कलाम उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए दृढ़ थे। 1955 में, उन्होंने भौतिकी में डिग्री के साथ स्नातक किया और बाद में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में एयरोस्पेस इंजीनियरिंग का अध्ययन करने चले गए। अपनी पढ़ाई के दौरान, उन्होंने कई चुनौतियों का सामना किया लेकिन डटे रहे और 1960 में उन्होंने एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में डिग्री के साथ स्नातक किया।

अपने बचपन के दौरान, कलाम अपने माता-पिता के धार्मिक और नैतिक मूल्यों से काफी प्रभावित थे। वह एक उत्साही पाठक भी थे और विज्ञान, प्रौद्योगिकी और साहित्य में उनकी रुचि थी। वे जूल्स वर्ने और एच. जी. वेल्स के कार्यों से विशेष रूप से प्रभावित थे, जिसने उनकी कल्पना और विज्ञान कथाओं के प्रति प्रेम को बढ़ावा दिया।

Biography of apj abdul kalam in hindi
Biography of apj abdul kalam in hindi

कलाम के बचपन के अनुभवों ने उनमें एक मजबूत कार्य नीति, दृढ़ संकल्प और बाधाओं के बावजूद सफल होने की इच्छा पैदा की। उनका मानना था कि शिक्षा सफलता की कुंजी है और उन्होंने अपने सपनों को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत की। ये मूल्य जीवन भर उनके साथ रहे और भारत की वैज्ञानिक और तकनीकी प्रगति में उनके योगदान में परिलक्षित हुए।

अंत में, डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम का बचपन वित्तीय कठिनाइयों से भरा रहा, लेकिन उन्होंने कड़ी मेहनत और दृढ़ संकल्प के माध्यम से उन पर विजय प्राप्त की। उनके अनुभवों ने उनमें मजबूत मूल्यों को स्थापित किया जिसने उन्हें जीवन भर निर्देशित किया और उन्हें विज्ञान और प्रौद्योगिकी में भारत की प्रगति में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए प्रेरित किया।

Dr. APJ Abdul Kalam एक वैज्ञानिक के रूप में:

अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद, कलाम 1963 में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) में शामिल हो गए। उन्होंने भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और भारत के बैलिस्टिक मिसाइल के विकास में उनके योगदान के लिए उन्हें “भारत के मिसाइल मैन” के रूप में जाना जाता है। उन्होंने SLV-3 रॉकेट और पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (PSLV) सहित कई परियोजनाओं पर काम किया, जिसने भारत के पहले उपग्रह आर्यभट्ट को कक्षा में लॉन्च किया।

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम को “मिसाइल मैन” भी कहा जाता है क्योंकि उन्होंने भारत के एकीकृत मिसाइल विकास कार्यक्रम के लिए बहुत से महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उन्होंने भारत की पहली अतिरंजन मिसाइल ‘अग्नि’ के विकास में भी नेतृत्व किया था। उन्होंने इस क्षेत्र में अपनी विशेषज्ञता व समझ का प्रदर्शन किया था, जो उन्हें “मिसाइल मैन” के रूप में जाना जाता है।

Dr. APJ Abdul Kalam का राष्ट्रपति बनने का सफर

2002 में, कलाम को केआर नारायणन के उत्तराधिकारी के रूप में भारत के राष्ट्रपति के रूप में चुना गया था। डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम का राष्ट्रपति बनने का सफर बहुत ही रोमांचक और प्रेरणादायक है। उन्होंने राष्ट्रपति के पद की उच्चतम गणतंत्रीय पदाधिकारी के रूप में भारत के लोगों का विश्वास जीता था। उनका सफर निम्नलिखित रूप से था:

2002 में, जब भारतीय राष्ट्रपति के चुनाव हुए, तब उन्हें भारतीय जनता पार्टी और उनके समर्थकों का समर्थन मिला था। इस चुनाव में वे को विवेकानंद जी वाजपेयी जी के विरोध में लड़ना पड़ा था। इस चुनाव में उन्होंने देश के राष्ट्रपति के रूप में चुनाव जीता था और 2002 से 2007 तक भारत के राष्ट्रपति के रूप में उन्होंने सेवा की।

डॉ. कलाम ने राष्ट्रपति के पद पर अपनी कुशलता और दृढ़ता से काम किया। उन्होंने राष्ट्र को अपनी उत्तरदायित्व की ओर ले जाने के लिए कई पहल की। उनके कार्यकाल में भारत की आर्थिक विकास और विज्ञान-प्रौद्योगिकी में तेजी से विकास हुआ। उन्होंने समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों के बीच एकता को बढ़ावा दिया और संवैधानिक दर्जे को महत्त्व दिया।

डॉ. कलाम भारत के राष्ट्रपति बनने से पहले भी बहुत सारे महत्वपूर्ण पदों पर काम कर चुके थे। उन्होंने भारत के अतिरिक्त प्रधानमंत्री व विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री के रूप में भी सेवा की थी। उन्होंने अपने समय के दौरान भारत के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी क्षेत्र में बहुत सारे उपलब्धियों को हासिल किया था।

APJ Abdul Kalam Bio Heighlights 
Real Name apj abdul kalam
apj abdul kalam full name Avul Pakir Jainulabdeen Abdul Kalam
अन्य नाम मिसाइल मैन
व्यवसाय Author, Aerospace Scientist
राजनीतिक पार्टी BJP (भारतीय जनता पार्टी)
लम्बाई (लगभग) 163 सेमी
शारीरिक संरचना (लगभग) 60  किलोग्राम
बालों का रंग स्लेटी
आँखों का रंग काला
पर्सनल लाइफ की कुछ बातें
जन्मतिथि 15 अक्तूबर 1931
आयु (मृत्यु के समय) 83 वर्ष
मृत्यु का कारण हार्ट अटैक
apj abdul kalam death date July 27, 2015
राष्ट्रीयता भारतीय
जन्मस्थान Rameswaram, Madras Presidency, British India
परिवार पिता का नाम – जैनुलाब्दीन
माता का नाम – आशियम्मा
धर्म इस्लाम
गृहनगर मुंबई , भारत
व्यवसाय Aerospace Scientist
Kalam,s Awards Indira Gandhi Award for National Integration, Padma Bhushan, Padma Vibhushan, Bharat Ratna, Veer Savarkar Award, SASTRA Ramanujan Prize
संस्थान Indian Space Research Organisation (ISRO),
Defence Research and Development Organisation (DRDO)
व्यक्तित्व के बारे में पसंदीदा बातें
पसंदीदा विषय मैथसमटिक्स और फिज़िक्स
प्रसिद्ध लिखी हुई किताब India 2020-1998, Wings of Fire-1999, Guiding Souls-2008, My Journey- 2013
गर्लफ्रेंड, अफेयर्स और अन्य के बारे में कुछ जानकारी 
वैवाहिक स्थिति अविवाहित
बॉयफ्रेंड एवं अन्य मामले कोई नहीं
पत्नी का नाम कोई नहीं
बच्चे कोई नहीं
Net Worth and salary
Net Worth कलाम जी की नेट वर्थ की बात करें तो उनके पास सिर्फ 2500 किताबें, एक हाथ घड़ी , एक सीडी प्लेयर , एक लैपटॉप , 6 शर्ट , 4 पैंट और 3 शूट के साथ उनका एक पैतृक घर था ।

apj abdul kalam awards पुरस्कार और सम्मान

अपने पूरे जीवन में, कलाम को विज्ञान और समाज में उनके योगदान के लिए कई पुरस्कार और सम्मान मिले। 1981 में, उन्हें भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में से एक पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। उन्हें 1990 में पद्म विभूषण और 1997 में भारत रत्न, भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भी मिला। इनके अलावा, कलाम को दुनिया भर के विश्वविद्यालयों से कई अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों और मानद उपाधियों से सम्मानित किया गया।

apj abdul kalam books

एपीजे अब्दुल कलाम एक विपुल लेखक और कई पुस्तकों के लेखक थे, जिनमें शामिल हैं:

  1. Wings of Fire: An Autobiography (1999)
  2. Ignited Minds: Unleashing the Power Within India (2002)
  3. My Journey: Transforming Dreams into Actions (2013)
  4. The Luminous Sparks (2004)
  5. India 2020: A Vision for the New Millennium (1998)
  6. Guiding Souls: Dialogues on the Purpose of Life (2008)
  7. My Life: An Illustrated Biography (2015)
  8. Transcendence: My Spiritual Experiences with Pramukh Swamiji (2015)
  9. The Family and the Nation (2017)

इन पुस्तकों में कलाम के जीवन और उपलब्धियों, भारत के भविष्य के लिए उनकी दृष्टि और आध्यात्मिकता और व्यक्तिगत विकास पर उनके विचारों सहित कई विषयों को शामिल किया गया है। उनके लेखन में विज्ञान, शिक्षा और सामाजिक परिवर्तन के प्रति उनके जुनून और भारत के लोगों की सेवा करने की उनकी प्रतिबद्धता की विशेषता है।

apj abdul kalam university

भारत में कई विश्वविद्यालय हैं जो एपीजे अब्दुल कलाम के सम्मान में स्थापित किए गए हैं, विज्ञान, प्रौद्योगिकी और शिक्षा में उनके अपार योगदान को पहचानते हुए। कुछ उदाहरण निम्नलिखित हैं:

  • APJ Abdul Kalam Technological University: यह विश्वविद्यालय तिरुवनंतपुरम, केरल में स्थित है, और 2014 में स्थापित किया गया था। यह इंजीनियरिंग, विज्ञान, प्रबंधन और मानविकी में स्नातक, स्नातकोत्तर और डॉक्टरेट कार्यक्रम प्रदान करता है।
  • APJ Abdul Kalam University: यह विश्वविद्यालय इंदौर, मध्य प्रदेश में स्थित है, और 2016 में स्थापित किया गया था। यह इंजीनियरिंग, प्रबंधन, विज्ञान, कानून और मानविकी में स्नातक और स्नातकोत्तर कार्यक्रम प्रदान करता है।
  • APJ Abdul Kalam University: यह विश्वविद्यालय लखनऊ, उत्तर प्रदेश में स्थित है, और 2015 में स्थापित किया गया था। यह इंजीनियरिंग, प्रबंधन, फार्मेसी, कानून और मानविकी में स्नातक और स्नातकोत्तर कार्यक्रम प्रदान करता है।
  • APJ Abdul Kalam Global University: यह विश्वविद्यालय जयपुर, राजस्थान में स्थित है, और 2017 में स्थापित किया गया था। यह इंजीनियरिंग, प्रबंधन, विज्ञान, कानून और मानविकी में स्नातक और स्नातकोत्तर कार्यक्रम प्रदान करता है।

इन विश्वविद्यालयों का उद्देश्य शिक्षा और नवाचार के लिए कलाम के मूल्यों और दृष्टि को बनाए रखना है और छात्रों को अपने अध्ययन के क्षेत्र में उत्कृष्टता हासिल करने के लिए प्रेरित करना है। वे कलाम की स्थायी विरासत और भारत और दुनिया भर में विज्ञान, प्रौद्योगिकी और शिक्षा के क्षेत्र में उनके प्रभाव के लिए एक वसीयतनामा के रूप में काम करते हैं।

apj abdul kalam technological university

APJ Abdul Kalam Technological University (KTU) केरल, भारत में स्थित एक राज्य विश्वविद्यालय है। इसकी स्थापना वर्ष 2014 में केरल सरकार द्वारा राज्य में इंजीनियरिंग शिक्षा और अनुसंधान के विकास को बढ़ावा देने के लिए की गई थी।

विश्वविद्यालय का नाम भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर रखा गया है, जो स्वयं एक प्रसिद्ध वैज्ञानिक और इंजीनियर थे। विश्वविद्यालय का दृष्टिकोण तकनीकी शिक्षा, अनुसंधान और नवाचार के लिए एक विश्व स्तरीय केंद्र बनना है।

KTU इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी के विभिन्न क्षेत्रों में स्नातक, स्नातकोत्तर और डॉक्टरेट कार्यक्रम प्रदान करता है। विश्वविद्यालय के राज्य भर में 150 से अधिक संबद्ध कॉलेज हैं, जो इंजीनियरिंग की विभिन्न शाखाओं जैसे मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल, सिविल, इलेक्ट्रॉनिक्स और कंप्यूटर साइंस में पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं।

विश्वविद्यालय एक क्रेडिट-आधारित सेमेस्टर प्रणाली का अनुसरण करता है, और छात्रों को व्यावहारिक ज्ञान और उद्योग-उन्मुख प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए पाठ्यक्रम तैयार किए गए हैं। विश्वविद्यालय छात्रों को विभिन्न शोध परियोजनाओं और स्टार्ट-अप पहलों में भाग लेने के लिए भी प्रोत्साहित करता है।

शैक्षणिक कार्यक्रमों के अलावा, KTU अपने छात्रों के समग्र विकास को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न पाठ्येतर गतिविधियों, खेल आयोजनों और सांस्कृतिक उत्सवों का भी आयोजन करता है। विश्वविद्यालय में एक उच्च योग्य संकाय, अत्याधुनिक बुनियादी ढांचा और आधुनिक सुविधाएं हैं, जो इसे देश के शीर्ष इंजीनियरिंग विश्वविद्यालयों में से एक बनाती हैं।

APJ Abdul Kalam Technological University एक प्रतिष्ठित संस्थान है जो इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा और नवीन अनुसंधान प्रदान करने का प्रयास करता है। इसका उद्देश्य सक्षम इंजीनियरों और प्रौद्योगिकीविदों को तैयार करना है जो देश और दुनिया के विकास में योगदान दे सकें।

apj abdul kalam thoughts (बिचार)

एपीजे अब्दुल कलाम ने जीवन भर नई सोच और विचारों का विकास किया और देश के युवाओं को स्फूर्ति दी। उनके विचार विश्वसनीय थे और उन्होंने शिक्षा, विज्ञान और सामाजिक परिवर्तन के क्षेत्र में अपनी भूमिका निभाई। यहां हमने एपीजे अब्दुल कलाम के कुछ प्रसिद्ध विचार नीचे लिखे है।

  1. “सपने वो नहीं होते जो आप सोते हुए देखते हैं, सपने वो होते हैं जो आपको सोने नहीं देते।”
  2. “यदि आप अपनी ज़िन्दगी में कुछ बदलाव चाहते हैं, तो आपको खुद पर बदलाव लाना होगा।”
  3. “एक सफल व्यक्ति वो होता है जो गलतियों से सीखता है और आगे बढ़ता है।”
  4. “सफलता उसके लिए होती है जो अपने लक्ष्य के लिए मेहनत करता है और सफल होने का दावा नहीं करता।”
  5. “अगर आप जिंदगी में सफल होना चाहते हैं, तो आपको नकारात्मक सोच से बचना होगा।”

एपीजे अब्दुल कलाम के विचार आज भी हमारे लिए एक प्रेरणा स्रोत हैं और हमें सफलता की दिशा में प्रेरित करते है।

apj abdul kalam death

Dr. APJ abdul kalam का निधन 27 जुलाई, 2015 को मेघालय, भारत में भारतीय प्रबंधन संस्थान शिलांग में व्याख्यान देते हुए हुआ। व्याख्यान के दौरान उन्हें दिल का दौरा पड़ा और उन्हें पुनर्जीवित करने के प्रयासों के बावजूद, 83 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया।

उनके आकस्मिक निधन की खबर से पूरे देश को झटका लगा और सभी क्षेत्रों के लोगों ने उन्हें शोक व्यक्त किया। विज्ञान, प्रौद्योगिकी और शिक्षा में डॉ कलाम के योगदान ने उन्हें भारत के लोगों के बीच अत्यधिक सम्मान और प्रशंसा अर्जित की थी।

उनकी मृत्यु के बाद, दुनिया भर के कई नेताओं और गणमान्य लोगों ने उनके सम्मान का भुगतान किया और अपनी संवेदना व्यक्त की। भारत सरकार ने पूर्व राष्ट्रपति के सम्मान में सात दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की।

डॉ. कलाम का निधन राष्ट्र के लिए एक बड़ी क्षति थी, क्योंकि वे न केवल एक प्रसिद्ध वैज्ञानिक और प्रौद्योगिकीविद् थे, बल्कि एक दूरदर्शी नेता भी थे, जिन्होंने अपने शब्दों और कार्यों से लाखों लोगों को प्रेरित किया। वह राष्ट्र को बदलने के लिए शिक्षा और नवाचार की शक्ति में विश्वास करते थे और उनकी विरासत आज भी भारत के युवाओं को प्रेरित करती है।

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की मृत्यु राष्ट्र के लिए एक बड़ी क्षति थी, क्योंकि वह एक दूरदर्शी नेता थे जिन्होंने भारत की वैज्ञानिक और तकनीकी प्रगति में महत्वपूर्ण योगदान दिया। उनका आकस्मिक निधन राष्ट्र के लिए एक सदमे के रूप में आया, और उन्हें सभी क्षेत्रों के लोगों द्वारा शोक व्यक्त किया गया। उनकी विरासत भारत के युवाओं को बेहतर भविष्य के लिए प्रेरित और मार्गदर्शन करती है।

निष्कर्ष:

एपीजे अब्दुल कलाम एक उल्लेखनीय इंसान थे जिन्होंने अपना जीवन सार्वजनिक सेवा और ज्ञान की खोज के लिए समर्पित कर दिया। विज्ञान, प्रौद्योगिकी और शिक्षा में उनके योगदान का भारत और दुनिया पर गहरा प्रभाव पड़ा है। कलाम की विरासत भविष्य के नेताओं और नवप्रवर्तकों की पीढ़ियों को बड़े सपने देखने और दुनिया को एक बेहतर जगह बनाने के लिए कड़ी मेहनत करने के लिए प्रेरित करती रहेगी।

इनके बारे मे भी जाने